Latest News madhyapradesh

किसान कर्जमाफी में एक और खुलासा अब सिर्फ 4 में से 1 किसान का होगा कर्ज माफ़

January 22nd, 2019 at 10:43 am by Anmol Gupta

अब किसान कर्ज माफ़ी एक धांधी सी लग रही है, राहुल गाँधी के अनुसार सभी किसानो का कर्ज माफ़ होना चाहिए था लेकिन ऐसा नहीं हो रहा रोज नए-नए निर्णय लिए जा रहे है ऐसे निर्णय को देखकर तो वस् यही लगता है की ये सिर्फ एक धांधी हैः

राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में सत्तारूढ़ पार्टी भाजपा की विधानसभा चुनावों में हार और बीते वर्ष देश के कई हिस्सों में किसान आंदोलन के चलते कृषि क्षेत्र की चुनौतियां राष्ट्रीय मुद्दा बना. यह जरूरी भी था क्योंकि कृषि क्षेत्र देश में कुल रोजगार का 49 फीसदी है और देश की लगभग 70 फीसदी जनसंख्या इसपर आधारित है.

इस सच्चाई के बावजूद कृषि क्षेत्र हाशिए पर रहा है. वहीं मौजूदा समय में भी ये मुद्दा राजनीतिक लाभ और लोकलुभावन नीतियों के चलते किसान कर्जमाफी, अधिक न्यूनतम समर्थन मूल्य और हाल ही में तेलंगाना के रायथू बंधु स्कीम इर्दगिर्द सीमित है.

हमें समझने की जरूरत है कि किसानों की समस्या रातों-रात नहीं पैदा हुई. नीति आयोग की 2017 की रिपोर्ट, किसानों की आमदनी को दोगुनी करने की पहल समेत कई ऐसी समीक्षा से साफ कि किसानों की समस्या 1991-92 में शुरू हुई. इस समय तक दोनों कृषि और गैर-कृषि क्षेत्रों में समान स्तर पर विकास हो रहा था.

जानें, किसानों को इस भंवर से निकालने के लिए क्या किया गया है.

कर्जमाफी से कुछ किसानों को फायदा, भूमिहीन के लिए बेअसर

कर्जमाफी किसी बिमारी का इलाज नहीं बल्कि कुछ किसानों को तत्काल प्रभाव से राहत पहुंचाने का एक जरिया है. इसका फायदा सिर्फ उन किसानों को मिलता है जिन्होंने संस्थागत कर्ज लिए हैं. पिछला एनएसएसओ सर्व 2013 के मुताबिक देश में 52 फीसदी कृषि परिवार कर्ज में डूबे हैं और इसमें महज 60 फीसदी परिवारों ने किसी संस्था से कर्ज लिया है. लिहाजा, साफ है कि महज 31 फीसदी (52 फीसदी का 60 फीसदी) कृषि परिवारों को कर्जमाफी का फायदा पहुंचने की उम्मीद है.

Anmol Gupta January 22, 2019 10:43 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *