कम्प्यूटर बाबा: मुझे सत्ता और कुर्सी का लालच नहीं, नर्मदा के लिए जान भी दे दूंगा
India Latest News madhyapradesh Treading

कम्प्यूटर बाबा: मुझे सत्ता और कुर्सी का लालच नहीं, नर्मदा के लिए जान भी दे दूंगा

October 24th, 2018 at 6:01 am by Yogesh Dwivedi

विधानसभा चुनाव से पहले सरकार को घेरने के लिए कम्प्यूटर बाबा ने मध्यप्रदेश के इंदौर से संतो का समागम शुरु कर दिया है, इसके तहत कंप्यूटर बाबा आज संतों ने मन की बात की और शिवराज सरकार पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहामुझे सत्ता और कुर्सी का कोई लालच नहीं है। ये सरकार धर्म विरोधी है। ऐसे में मां नर्मदा को निर्मल, पवित्र बनाने के लिए अगर अपनी जान भी देनी पड़ी तो संत समाज पीछे नहीं हटेगा” उन्होंने मां नर्मदा, गौ माता के मुद्दे पर सरकार को घेरते हुए कहा कि प्रदेश सरकार इसे लेकर काम नहीं कर रही है।माना जा रहा है कि बाबा के इस कदम से बीजेपी की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। चुंकी अगले महिने मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनाव होने जा रहे हैं और ऐसे में कंप्यूटर बाबा के इस कदम से कुछ असर पढ़ सकता है।

 बाबा यह अभियान अक्टूबर से लेकर नवंबर चुनाव से पहले तक चलने वाला है। बाबा ग्वालियर में 30 अक्टूबर, खांडवा में 4 नवंबर, 11 नवंबर को रीवा और 23 नवंबर को जबलपुर में संतों का महासम्मेलन बुलाएंगे। समागम में शामिल मुद्दों में नर्मदा में अवैध उत्खनन, गौ रक्षा, मंदिर निर्माण के जैसे मुद्दे शामिल किए जाएंगे।ऐसे में बीजेपी भी नाराज कंप्यूटर बाबा को मनाने के प्रयास में जुटी है। चुनावी समर में संतों की नाराजगी भाजपा को भारी पड़ सकती है, जिसके चलते भाजपा ने बाबा को मनाने की कोशिश शुरू कर दी है। सरकार ने जूनापीठ के पीठाधीश्वर स्वामी अवधेशानंद गिरी को मध्यस्थता का जिम्मा सौंपा है। वह बाबा से मिलकर सुलह कराने की कोशिश करेंगे। वही बीजेपी इसके लिए दूसरे राज्यों के बड़ेबड़े संतों को कंप्यूटर बाबा के पास भेजने की तैयारी कर रही है।

बता दें कि बता दें करीब छह महीने पहले ही कंप्यूटर बाबा को प्रदेश सरकार में राज्य मंत्री बनाया गया था, लेकिन राज्यमंत्री के पद से नाखुश कंप्यूटर बाबा के विधानसभा चुनाव लड़ने की इच्छा जाहिर करने पर शिवराज सरकार काफी असमंजस में फंस गई, जिसके बाद पार्टी से नाराज बाबा ने राज्यमंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया और सरकार के खिलाफ ही मोर्चा खोल दिया। उन्होंने आरोप लगाया था कि शिवराज सरकार संत समाज की उपेक्षा कर रही है। 

Yogesh Dwivedi October 24, 2018 6:01 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *