कांग्रेस 50 फीसदी भी पूरा करती है तो एमपी किसी जन्नत से कम नहीं होगा
India Latest News madhyapradesh Treading

कांग्रेस 50 फीसदी भी वादे पूरा करती है तो एमपी किसी जन्नत से कम नहीं होगा

November 14th, 2018 at 6:23 am by Yogesh Dwivedi

 मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के मद्देनजर कांग्रेस ने वचन पत्र जारी कर दिया है। कांग्रेस ने वचन पत्र में वादों की झड़ी लगा दी है। सत्ता वापसी के लिए कांग्रेस ने वादों की बौछार कर दी है, लेकिन उसके सामने सबसे बड़ी चुनौती है सरकार बनाना। अगर सत्ता में कांग्रेस  की वापसी भी होती है और वह किए गए अपने वादों का 50 फीसदी भी पूरा करती है तो एमपी किसी जन्नत से कम नहीं होगा। जो कांग्रेस ने वादे किए हैं उनकों पूरा करने के लिए करीब एक लाख करोड़ की जरूरत होगी।  सबसे बड़ा सवाल यह खड़ा होता है कि कांग्रेस यह फंड कैसे और कहां से मैनेज करेगी। फंड के सवाल पर कांग्रेस का वचन पत्र कोरा साबित होता है।

112 पन्नों में है 973 वादे

कांग्रेस के वचन पत्र में 973 वादे किए गए हैं। इनमें किसान कर्ज माफी, डेरी किसान को पांच रुपए लीटर बोनस, छोटे किसानों को बेटी की शादी के लिए 51 हजार रुपए सहायता, हर गांव में गौशाला, प्रथमिक से कॉलेज तक लड़कियों के लिए मुफ्त शिक्षा। सभी 60 से अधिक छोटे किसानों, व्यापारियों, कलाकारों, कारीगरों, लेखकों और श्रमिकों के लिए 1,000 मासिक पेंशन प्लस 450 वर्ग फुट पर घर बनाने के लिए 2 लाख रुपये की घोषणा की है।

ऐसे बिगड़ा अर्थशास्त्र

कांग्रेस को वचन पत्र में किए वादे पूरा करने के लिए एक लाख करोड़ रुपए की जरूरत होगी। अगर कांग्रेस सरकार में आती है तो उसे बजट सत्र में इसकी घोषणा करनी होगी। जबकि प्रदेश में कुल वार्षिक आय है 1.61 लाख करोड़। प्रदेश सरकार के खर्चें है कि 1.86 लाख करोड़। ऐसे में कांग्रेस किस कोष से फंड को मैनेज करेगी यह उसके लिए किसी चुनौती से कम नहीं ।

किसानों का 50 हजार करोड़ कर्ज माफ होगा

कांग्रेस ने वादा किया है अगर सत्ता में आती है तो किसानों का 2 लाख तक का कर्ज माफ करेगी। जबकि प्रदेश में करीब 67 लाख किसान हैं, जिन पर करीब 70 हजार करोड़ का कर्ज है। अगर कांग्रेस दो लाख या फिर उससे कम का कर्ज भी माफ करती है तो सरकार को इसकी भरपाई करने के लिए करीब 50 हजार करोड़ की जरूरत होगी। सरकार को उसकी वार्षिक आय का एक तीहाय किसान माफी के लिए खर्च करना होगा।

सभी पंचायतों में गौशाला होगी

कांग्रेस ने प्रदेश की सभी पंचायतों में गोशाला बनाने की घोषणा की है। अगर कांग्रेस एक गौशाला पर तीन लाख रुपए खर्च करती है तो उसे प्रदेश के 23 हजार पंचायतों के लिए करीब 700 करोड़ रुपए की जरूरत पड़ेगी ।

 

Yogesh Dwivedi November 14, 2018 6:23 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *