कांग्रेस का दावा बीजेपी का महाकुम्भ फ्लॉप. जानिए यहाँ
India Latest News madhyapradesh Treading

कांग्रेस का दावा बीजेपी का महाकुम्भ फ्लॉप. जानिए यहाँ

September 26th, 2018 at 6:50 am by Yogesh Dwivedi

मध्य प्रदेश के सियासी रण में बीजेपी और कांग्रेस अब पूरी तरह चुनावी मोड में आ चुकी हैं| कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के बाद प्रधानमंत्री मोदी और बीजेपी राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने भोपाल में कार्यकर्ता महाकुंभ से चुनावी बिगुल फूंक दिया है| बीजेपी ने इस आयोजन को विश्व का सबसे बड़ा महाकुंभ होने का दावा किया | लेकिन कांग्रेस ने इस पर सवाल उठाये है और खाली कुर्सियों की तस्वीरों को सोशल मीडिया पर बीजेपी पर तंज कसा है और बीजेपी के दावे के उलट इसे फ्लॉप महाकुंभ बताया जा रहा है|

नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने ट्वीट कर बीजेपी के कार्यकर्ता महाकुंभ पर निशाना साधा है| उन्होंने लिखा है भोपाल में भाजपा के मंच पर एक साथ झूठ बोलने वाली तीन मशीनें देखी गईं है । दुर्भाग्य यह था कि उसमें हमारे देश के प्रधानमंत्री, विश्व की सबसे बड़ी पार्टी होने के दावा करने वाले राष्ट्रीय अध्यक्ष और 15 साल से मुख्यमंत्री शामिल हैं। अजय सिंह ने कहा कि पहले झूठ का पर्दाफाश तो मैदान पर ही हो गया जब दस लाख की जगह कुछ लाख में ही मैदान सिमट गया वह तब जब 200 करोड़ खर्च कर दिया गया। सबसे बड़ा झूठ यू.पी.ए. सरकार से राज्य को पैसा नहीं मिला। अपने 15 साल के मुख्यमंत्री या बाबूलाल गौर जी से ही पूछ लेते है । बहरहाल भाजपा तो हमेशा झूठ ही बोलती आई लेकिन एक देश का प्रधानमंत्री, उसका पार्टी अध्यक्ष और राज्य का मुख्यमंत्री एक साथ झूठ बोलने सुनने का पहला अनुभव है।

मध्य प्रदेश कांग्रेस के ऑफिसियल ट्विटर पर लिखा गया की ‘मोदी को चिढ़ाती “ख़ाली कुर्सियाँ”..! मप्र को धनबल के साथ-साथ साम, दाम, दंड और भेद दिखाने के बाद भी ये ख़ाली कुर्सियाँ मोदी की लोकप्रियता के गिरते ग्राफ़ को प्रदर्शित कर रही है। महाकुंभ की बात थी, अर्धकुंभ की तैयारी थी, और अल्पकुंभ भी हो नहीं सका।

कमलनाथ : मैदान बड़ा था लेकिन जनता गलियों से भी कम

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने पीएम मोदी द्वारा राहुल पर टिप्पणी पर पलटवार करते हुए कहा ‘राहुल जी को गलियों वाले नेता बताने वाले शिवराज, गलियों में ही ग़रीब जनता बसती है| आपके नेता तो गलियाँ छोड़ हवा में ही आकर चले गये, हिम्मत दिखाते उन्हें गलियों में घुमाने की , ग़रीब जनता से मिलाने की…आपका मैदान ज़रूर बड़ा था लेकिन जनता गलियों से भी कम थी|

 

Yogesh Dwivedi September 26, 2018 6:50 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *