bhopal India indore Latest News madhyapradesh states

शिवराज के खिलाफ ‘महागठबंधन’ की तैयारी

October 3rd, 2018 at 11:08 am by Anmol Gupta

आने वाले विधानसभा चुनाव के लिए प्रदेश में लंबे समय से राजनीतिक दलों के बीच गठबंधन को लेकर अटकलों का दौर जारी है, लेकिन अभी तक किसी भी दल के साथ गठबंधन नहीं हुआ । राजनीतिक गलियारों में चर्चा है कि प्रमुख राजनीतिक कांग्रेस एवं भाजपा को छोड़कर अन्य सारे छोटे-छोटे दल आपस में एक साथ होकर चुनाव लड़ सकते हैं। राज्य में आचार संहिता लागू होने के बाद ये दल गठबंधन भी कर सकते हैं और सीटों का बंटवारा कर चुनाव मैदान में उतर सकते हैं। इन छोटे दलों का कांग्रेस या भाजपा के साथ किसी भी तरह का समझौता नहीं हैं । गठबंधन को लेकर रविवार को आठ राजनीतिक दलों ने भोपाल में की बैठक ।
जानकारी के अनुसार राजधानी में आने वाले चुनाव को लेकर हुई बैठक में लोकतांत्रिक जनता दल, सीपीआई, सीपीएम, बहुजन संघर्ष दल, गोंडवाना गणतंत्र पार्टी, समाजवादी पार्टी, राष्ट्रीय समानता दल और प्रजातांत्रिक समाधान पार्टी शामिल हुई हैं । बैठक में सिर्फ चुनाव को लेकर चर्चा हुई, गठबंधन जैसा फैसला फिलहाल नहीं लिया गया है। लोकतांत्रिक जनता दल के नेता गोविन्द यादव के अनुसार मध्यप्रदेश के आने वाले विधानसभा चुनाव के लिए गैर-बीजेपी राजनैतिक दलों के गठबंधन निर्माण के लिए आठ विभिन्न राजनैतिक दलों की बैठक भोपाल में हुई। जिसमें 8 राजनीतिक पार्टियां वैकल्पिक राजनीति के लिए साथ आने पर विचार कर रही है, लेकिन अभी तक सहमति नहीं बन पाई है। अब अगली बैठक 7 अक्टूबर को होगी।
राजनीतिक दलों के प्रतिनिनिधयों के बीच कांग्रेस को गठगंधन में शामिल करने पर सहमति नहीं बन पाई है। कांग्रेस को भी इस गठबंधन में शामिल कर महागठबंधन बनाने के मुद्दे पर चर्चा की गई है, लेकिन कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीआई) और माक्र्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीएम) ने इसका विरोध किया जिस कारण गठबंधन नहीं हो सका।
राजनीतिक जानकारों के मुताबिक, यह देखा गया है कि विपक्षी दलों के वोटों का बिखराव हर विधानसभा चुनाव में होता है। इसका सीधा फायदा सत्ता सीन पार्टी को मिलता है। यदि सभी पार्टियां साथ आती हैं तो काफी हद तक बीजेपी को इसका नुकसान होगा।

Anmol Gupta October 3, 2018 11:08 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *