आखिर किस सवाल ने की शिवराज की बोलती बंद [एट्रोसिटी एक्ट] – बीजेपी सपाट
delhi India Latest News madhyapradesh Treading

आखिर किस सवाल ने की शिवराज की बोलती बंद [एट्रोसिटी एक्ट] – बीजेपी सपाट

September 22nd, 2018 at 7:39 am by Yogesh Dwivedi

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का एट्रोसिटी एक्ट को लेकर दिया बडा बयान | और अब उन्ही के गले पड़ गया यह बयान, अब वो इस बारे में बोलने से बचते नजर आते दिखे हैं। शुक्रवार देर रात पिपरिया पहंचे सीएम से जब एससी एसटी एक्ट पर दिए यह बयान पर सवाल पूछा गया तो उन्होंने मुंह फेर लिया। पत्रकारों ने उनसे पूछा था कि संसद द्वारा किए गए संशोधन के बाद वह प्रदेश में उनके द्वारा किए गए ऐलान पर किस तरह अमली जामा पहनाएंगे। लेकिन सवाल पर सीएम खामोशी साध गए और मुँह फेरते हुए दिखाई दिए ।

दरअसल बात एट्रोसिटी एक्ट के खिलाफ बढ़ते आक्रोश को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज ने बड़ा ऐलान दिया था, उन्होंने कहा कि प्रदेश में इस कानून के तहत बिना किसी जांच के गिरफ्तारी नहीं होने देंगे। इस बयान के बाद राजनीति काफी तेज हो गई। मामला दिल्ली तक पहुंच चुका है और हड़कंप मचा हुआ है । राजनीति के जानकारों ने शिवराज के इस दांव को एक बड़ी सियासी चाल बताया है । उनका मानना है कि नाराज सवर्णों को अपनी ओर करने के लिए सीएम ने यह ऐलान किया। लेकिन ये महज कोरी घोषणा साबित होगी क्योंकि जबतक कानून में संशोधन नहीं किया जाएगा तब तक कोई भी घोषणा करने से कोई भी असर नहीं होगा। वहीं संसद में पारित कानून को राज्य सरकार बदल नहीं सकती है।

गौरतलब है कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुरुवार को एक बड़ी घोषणा की। CM शिवराज ने ट्वीट करके कहा कि मध्य प्रदेश में एट्रोसिटी एक्ट का दुरुपयोग नहीं होने दिया जाएगा और बिना जांच किए किसी की गिरफ्तारी नहीं की जाएगी। मुख्यमंत्री का यह बयान सुप्रीम कोर्ट के एक्ट्रोसिटी एक्ट के इस प्रावधान से मेल खाता है जिसमें सुप्रीम कोर्ट ने व्यवस्था की थी कि मामला दर्ज करने के बाद बिना जांच की गिरफ्तारी नहीं होगी । इस प्रावधान को बाद में संसद में बदल दिया गया था और मामला दर्ज होते ही गिरफ्तारी करने की व्यवस्था पुनः लागू कर दी गई । संसद के द्वारा किए गए इस प्रावधान के बाद इस एक्ट का विरोध पूरे देश और प्रदेश में होने लगा।

Yogesh Dwivedi September 22, 2018 7:39 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *